Monday, October 2, 2023
UTTARAKHAND: उत्तराखंड में बीजेपी आलाकमान ले सकता है बड़ा फैसला!,केंद्रीय पर्यवेक्षक देंगे अपनी रिपोर्ट
ख़बर शेयर करें

बीजेपी के उत्तराखंड प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम और केंद्रीय पर्यवेक्षक रमन सिंह दिल्ली रवाना हो गए हैं. ये दोनों बीजेपी(BJP) आलाकमान को अपनी रिपोर्ट सौंपेग.अगले दो से तीन दिन उत्तराखंड की राजनीति के लिए अहम माने जा रहे हैं.राजनीतिक सरगर्मियों के बीच आज गैरसैंण विधानसभा का बजट सत्र भी अऩिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया.जिसके बाद सभी विधायक और मंत्री देहरादून पहुंचे.जहां बीजापुर स्थित सेफ हाउस में उत्तराखंड भाजपा कोर ग्रुप की बैठक में सभी शामिल हुए. इस बैठक में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम, केंद्रीय पर्यवेक्षक रमन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत, सांसद अजय भट्ट,राज्यसभा सांसद नरेश बंसल, सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह, संगठन महामंत्री अजय कुमार और प्रदेश महामंत्री कुलदीप बैठक में मौजूद रहे. बैठक करीब आधा घंटे तक चली.सभी के जाने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा भी बैठक में पहुंचे. वहीं, बैठक के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत मुस्कुराकर बाहर निकले.

वहीं केंद्रीय पर्यवेक्षकों के जाने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 30 से अधिक विधायकों के साथ मुख्यमंत्री आवास पर मुलाकात की और 18 मार्च को आयोजित होने वाले सरकार के चार साल “बातें कम-काम ज्यादा” कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए चर्चा की, कुछ लोग सीएम की इस बैठक को शक्ति प्रदर्शन के तौर पर भी देख रहे हैं.

वहीं उत्तराखंड में आज दिनभर चर्चाओं का बाजार गर्म रहा. अटकलें लगती रहीं कि उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षकों को देहरादून भेजा गया है.राजनीति के जानकार भी मान रहे हैं कि विधायकों और मंत्रियों की नाराजगी के बाद ही केंद्रीय हाईकमान ने पर्यवेक्षकों को उत्तराखंड भेजा. वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत का कहना है कि उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन नहीं होगा. त्रिवेंद्र सिंह रावत ही 5 साल तक मुख्यमंत्री रहेंगे.बंशीधर भगत ने कहा कि जो अटकलें लग रही हैं वह निराधार हैं. कोर ग्रुप की बैठक पर बंशीधर भगत ने कहा कि सरकार के 4 साल पूरे होने को लेकर चिंतन किया गया है. फिलहाल बीजेपी का कोई भी नेता कोरग्रुप की इस बैठक के बारे में कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं है.लेकिन जिस तरह से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत कई विधायक-मंत्री गैरसैंण में सत्र को बीच में ही छोड़कर देहरादून पहुंचे थे उसको सामान्य बैठक से जोड़कर नहीं देखा जा रहा है.

Tags: , , , , , , , , , , ,

Related Article


FOLLOW US

RECENTPOPULARTAG